Sunday, 15 April 2018

इलाहाबाद: जानें क्यों 'हमसफर' यार्ड में और हजारों मुसाफिर वेटिंग में

इलाहाबाद। वरिष्ठ संवाददाताUpdated: Wed, 21 Mar 2018 04:23 PM IST
दिल्ली (आनंद विहार) के लिए इलाहाबाद से नई एसी ट्रेन हमसफर एक्सप्रेस चले तो मुसाफिरों की परेशानी दूर हो। ट्रेन पूरी तरह तैयार सूबेदारगंज में खड़ी है। सिर्फ चलने का इंतजार है। ट्राई वीकली ट्रेन चल जाए तो दिल्ली के मुसाफिरों को हफ्ते में छह दिन जंक्शन से चलने वाली दो ट्रेनें मिल जाएं। अभी हफ्ते में तीन दिन ही जंक्शन से चलने वाली दो ट्रेनें उपलबध हैं। ऐसे में यात्री वेटिंग टिकट पर सफर करने को मजबूर हैं।
दिल्ली के लिए जंक्शन से यूं तो 56 ट्रेनें हैं, लेकिन पीछे से आने वाली ट्रेनों में शहरियों को सीटें कम ही मिल पाती हैं। शिवगंगा, रीवांचल, मडुवाडीह एक्सप्रेस, ब्रह्मपुत्र मेल, महाबोधि, पूर्वा एक्सप्रेस आदि ट्रेनों में बड़ी संख्या में इलाहाबाद के लोग दिल्ली के लिए चढ़ते हैं। जंक्शन से चलने वाली सिर्फ एक ट्रेन प्रयागराज एक्सप्रेस ही रोजाना उपलब्ध है। हफ्ते में तीन दिन मंगलवार्, गुरुवार और रविवार को दूरंतो चलती है। 
सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को जंक्शन से एक ही ट्रेन चलने से प्रयागराज एक्सप्रेस और पीछे से आने वाली ट्रेनों में यात्री वेटिंग टिकट पर सफर को मजबूर हो रहे हैं। शुक्रवार को तो प्रयागराज में सीटों के लिए बड़ी मारामारी होती है। खासकर एसी कोचों में। इस दिन वीआईपी कोटे के लिए भी दबाव बहुत अधिक होता है। रेलवे ने इस परेशानी को देखते हुए ही ट्राईवीकली हमसफर एक्सपेस सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को चलाने का ऐलान किया। पर ट्रेन आकर डेढ़ माह से भी अधिक समय से सूबेदारगंज में ठहरी है। 
फरवरी में रोजाना 20 हजार से ज्यादा यात्री
बीते फरवरी महीने में जंक्शन से औसतन रोजाना 20 हजार से भी ज्यादा यात्री दिल्ली को निकले। रेलवे के रिजर्वेशन के आंकड़ों के अनुसार पहली से 28 फरवरी तक जंक्शन से दिल्ली के 5,77,284 यात्री निकले। शादियों का सीजन और होली का आगा होने से यात्री इस महीने में बढ़े रहे। दिल्ली के लिए जंक्शन से यूं भी रोजाना 12 से 15 हजार यात्री होते हैं। इनमें से तीन से चार हजार लोग वेटिंग टिकट लेकर सफर करने को मजबूर हैँ। 
पीएमओ से हरी झंडी मिलने का इंतजार
हमसफर एक्सप्रेस जनवरी अंत में ही आ चुकी है। 10 दिन में फिटनेस जांच के बाद ट्रेन चलने के लिए तैयार हो गई। अफसरों ने फरवरी में ही उद्घाटन समारोह कराने की तैयारी शुरू की लेकिन उपचुनाव की आचार संहिता लागू हो गई। जीएम ने बिना उद्घाटन ट्रेन चलाने का भरोसा दिया लेकिन रेल मंत्रालय से मंजूरी नहीं मिली। आचार संहिता खत्म होने के बाद भी ट्रेन नहीं चलने से यात्री परेशान हैं। नाम नहीं छापने की शर्त पर एक अफसर ने बताया कि पीएम दफ्तर से रेल मंत्रालय को मंजूरी मिलने पर ही ट्रेन चलाई जा सकेगी।
1296 सीटों की ट्रेन कम करेगी परेशानी
जंक्शन से हमसफर एक्सप्रेस चल जाए तो दिल्ली के यात्रियों को काफी राहत होगी। एसी थ्री के 16 कोच वाली ट्रेन में 1296 सीटें होंगी। इतनी सीटों से यात्रियों को बड़ी राहत मिल सकेगी। इस ट्रेन के थ्री एसी कोच दूसरी ट्रेनों की तुलना में ज्यादा आरामदायक हैं।

0 comments:

Post a comment

Popular Posts