Sunday, 27 March 2016

Published: Sun, 27 Mar 2016 01:00 AM (IST) | Updated: Sun, 27 Mar 2016 01:00 AM (IST)
By: Editorial Team
- Seजबलपुर। गर्मी ने अपनी तपिस बढ़ाना शुरू कर दी है। इस गर्मी में ट्रेनों के जनरल और स्लीपर बोगी में चलने वाले पैसेंजर का बुरा हाल है। गर्मी से राहत देने रेलवे ने ट्रेनों में तो कोई खास व्यवस्था नहीं की है, लेकिन स्टेशनों पर भी ऐसी कोई सुविधा नहीं दी जो ट्रेन का इंतजार करने वाले पैसेंजर को गर्मी से राहत दे सके। पैसेंजर को ठंडे पानी देने के लिए जबलपुर रेलवे स्टेशन पर भी अब तक कोई व्यवस्था नहीं की गई है। हालात यह हैं कि कई वाटर कूलर अभी भी काम नहीं कर रहे। इस बीच बंद बोटल का पानी बेचने के लिए वेंडरों ने पीने के पानी की सप्लाई पर अपनी नजर लगा दी है।
Mar 27 2016 (12:26PM)

जबलपुर। गर्मी ने अपनी तपिस बढ़ाना शुरू कर दी है। इस गर्मी में ट्रेनों के जनरल और स्लीपर बोगी में चलने वाले पैसेंजर का बुरा हाल है। गर्मी से राहत देने रेलवे ने ट्रेनों में तो कोई खास व्यवस्था नहीं की है, लेकिन स्टेशनों पर भी ऐसी कोई सुविधा नहीं दी जो ट्रेन का इंतजार करने वाले पैसेंजर को गर्मी से राहत दे सके। पैसेंजर को ठंडे पानी देने के लिए जबलपुर रेलवे स्टेशन पर भी अब तक कोई व्यवस्था नहीं की गई है। हालात यह हैं कि कई वाटर कूलर अभी भी काम नहीं कर रहे। इस बीच बंद बोटल का पानी बेचने के लिए वेंडरों ने पीने के पानी की सप्लाई पर अपनी नजर लगा दी है।
पानी बेचने, मुफ्त के पानी पर रोक
दरअसल हर साल पीने के पानी की सप्लाई में गर्मी के वक्त व्यवधान उत्पन्न होने लगता है। यह काम सिर्फ प्लेटफार्म पर बंद बोतल का पानी बेचने के लिए किया जाता है। इसको लेकर जबलपुर मंडल से जोन तक शिकायत भी होती है, लेकिन इसका समाधान अब तक रेलवे अधिकारियों ने नहीं निकाला है। इस बार भी यह समस्या तय है, पर अभी तक इस ओर किसी का ध्यान ही नहीं गया, जबकि ट्रेनों में भीड़ और मौसम में तपिस बढ़ने लगी है।
नहीं लग सकी वाटर वेंडिंग मशीन
दरअसल रेलवे और आईआरसीटीसी ने स्टेशन पर पैसेंजर को शुद्ध और सस्ता पानी देने के लिए योजना बनाई थी। इसमें भीड़ वाले स्टेशनों में वाटर वेंडिंग मशीन लगाई जानी थी। जबलपुर रेल जोन में भी यह काम होना था, लेकिन इसको लेकर बनाए गए नियम और टेंडर प्रक्रिया रेलवे अधिकारियों को रास नहीं आई। इस पर विवाद बढ़ता देख आईआरसीटीसी के टेंडर ही निरस्त कर दिए। इस वजह से जबलपुर समेत कई स्टेशनों में वाटर वेंडिंग मशीन नहीं लग सकी है। सूत्र बताते हैं अभी इसके लिए पैसेंजर को 1 साल और इंतजार करना होगा।
जीएम तक शिकायत पर समाधान नहीं
दरअसल प्लेटफार्म में फूड स्टॉल लगाने वाले कुछ ठेकेदार और वेंडर रेलवे द्वारा लगाए जाने वाले वाटर कूलर और पानी की सप्लाई पर अड़ंगा लगाते हैं। इस बार भी यह काम शुरू कर दिया गया है, लेकिन जोन और मंडल ने अब तक इस पर कोई एक्शन प्लान ही तैयार नहीं किया। दरअसल पिछले साल इसकी शिकायत जोन के जीएम तक पहुंची थी, जिसके बाद कुछ हद तक इसमें कमी आई, लेकिन इस बार अभी तक ऐसा कोई प्लान नहीं बनाया गया है, जिससे इसे रोका जाए।
यह आती है समस्या
- जबलपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म के वाटर कूलर कभी भी खराब हो जाते हैं
- ट्रेन ऐसी प्लेटफार्म पर रोकी जाती है, जहां ज्यादा से ज्यादा बंद बोतल पानी बिके
- वाटर कूलर के नल में पानी का प्रवाह कम हो जाता है, जिससे बोतल में पानी नहीं भरता
- ट्रेन सिर्फ 2 मिनट के लिए रुकती है, जिसमें पानी लेने से ज्यादा खरीदना ज्यादा आसान है
- जो बंद बाटल यहां सप्लाई होती है, उसमें अधिकांश रेलवे की लिस्ट में ही शामिल नहीं

0 comments:

Post a comment

Popular Posts