Saturday, 9 April 2016



08-अप्रैल, 2016 19:38 IST
Press Information Bureau, Government Of India, रेल मंत्रालय
शान-ए-पंजाब एक्सप्रेस सीसीटीवी निगरानी कैमरा से लैस भारत की पहली रेलगाड़ी बनी 
रेलयात्रियों की निजता के लिए सुरक्षा देखभाल में निगरानी प्रणाली से कोई समझौता नहीं 
डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर के साथ प्रत्येक कोच में 5-6 कैमरे लगाए गए 
धुंधली लाइट या कम लाइट की स्थिति में खासकर गलियारा क्षेत्र में व्यक्ति के चेहरे की पहचान संभव  
     
रेल में सुरक्षा उपाय बढ़ाने के बजटीय प्रस्ताव को ध्यान में रखते हुए रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने आज नई दिल्ली में रेल भवन परिसर से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए गाड़ी संख्या 12497/12498 शान-ए-पंजाब एक्सप्रेस में सीसीटीवी कैमरों की स्थापना का उद्घाटन किया। रेल भवन में उपस्थित वरिष्ठ अधिकारियों में रेल बोर्ड के सदस्य मैकेनिकल श्री हेमंत कुमार, रेल बोर्ड में सदस्य ट्रैफिक श्री मोहम्मद जमशेद, रेल बोर्ड में सदस्य इंजीनियरिंग श्री वी. के. गुप्ता और उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक श्री ए. के. पुठिया और दिल्ली मंडल के डीआरएम श्री अरुण अरोड़ा शामिल हैं। अमृतसर रेलवे स्टेशन पर रस्मी उद्घाटन समारोह में पंजाब के चिकित्सा, शिक्षा तथा अनुसंधान मंत्री श्री अनिल जोशी, अमृतसर के मेयर श्री बख्शी राम अरोड़ा, यात्री सुविधा समिति के सदस्य डॉ. अशोक त्रिपाठी, श्री मोहम्मद इरफान खान तथा श्री तिलक राज कटारिया प्रमुख अतिथि थे। इस अवसर पर उत्तर रेलवे, फिरोजपुर, के मंडलीय रेल प्रबंधक (डीआरएम) श्री अनुज प्रकाश और रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
इस अवसर पर रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने कहा कि यात्रियों की सुरक्षा भारतीय रेल की हमेशा प्राथमिकता रही है। सभी रेल यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हेल्पलाइनें, सीसीटीवी कैमरे, आरपीएफ को संवेदी बनाने, एकीकृत सुरक्षा प्रणाली जैसे कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि रेलगाड़ियों में सुरक्षा में सुधार की दिशा में शान-ए-पंजाब एक्सप्रेस में सीसीटीवी निगरानी कैमरे लगाना एक और कदम है। उन्होंने कहा कि भारतीय रेल गाड़ियों में सीसीटीवी कैमरा लगाना प्रौद्योगिकी दृष्टि से एक महत्वपूर्ण कदम है। उन्होंने कहा कि टेक्नोलॉजी और मानव प्रयास दोनों साथ-साथ होने चाहिए। उन्होंने कहा कि भारतीय रेल प्रौद्योगिकी विकास के लिए नवाचारी समधान ढूढ़ने में सक्रिय है। इससे निश्चित रूप से रेल परिसरों में अप्रत्याक्षित घटनाओं/अपराधों में कमी आएगी।
उन्होंने शान-ए-पंजाब एक्सप्रेस में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने के बारे में कहा कि यह शान-ए-सुरक्षा का उदाहरण साबित होगा। रेल परिषर में भारतीय रेल सुरक्षा बढ़ाने के निरंतर उपाय कर रही है। 24 घंटे की हेल्पलाइनें, आपातस्थिति से निपटने के लिए मल्टीस्क्रीनिंग टेक्नोलॉजी, निगरानी और सुरक्षा प्रणाली जैसे कदम उठाए जा रहे हैं। निगरानी प्रणाली मैसर्स ए पॉल इन्सट्रूमेंट कंपनी द्वारा 36.71 लाख रुपए की लागत से स्थापित की गई। कैमरे 12497 शान-ए-पंजाब एक्सप्रेस के 02 स्लीपर कोच, 03 एसी चेयर कार तथा 16 गैर वातानुकूलित चेयर कार कोचों में लगाए गए हैं। प्रत्येक कोच में 04-06 कैमरे इस तरह लगाए गए हैं कि कोच के प्रत्येक हिस्से की तस्वीर ली जा सके। रिकॉर्डिंग के लिए डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर है और इसमें एचडीडी तथा एसडी कार्ड, सॉफ्टवेयर, देखने के लिए डिस्प्ले मानिटर, आपस में जुड़े केबल, 12 बोल्ट की बिजली सप्लाई तथा उपकरण लगे हैं।

एजी/डीसी-1904
(Release ID : 138711)
                        
(Release ID 47110)

0 comments:

Post a comment

Popular Posts